Home अपना नजरिया कर्नाटक इलेक्शन 2018 पर एक नज़र

कर्नाटक इलेक्शन 2018 पर एक नज़र

0 second read
0
2
221
karnataka election 2018

कर्नाटक इलेक्शन 2018 पर एक नजर

दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। और लोकतंत्र की पहचान उसके लोगों द्वारा चुनी हुई सरकार द्वारा ही की जाती है। भारत में हर पांच साल बाद इलेक्शन कराए जातें है और लोग अपने अनुसार सबसे काबिल उम्मीदवारों को वोट देकर अपना नेता चुनते हैं। भारत में कोई भी व्यक्ति जो कानूनी तौर पर काबिल होता है वह उम्मीदवार बन सकता है जोकि भारत के लोकतंत्र की एक खूबसूरती है। आज हम आपको इसी खूबसूरती की एक झलक यानी की कर्नाटक इलेक्शन के बारे में बताएँगे।

कर्नाटक

1 नवम्बर 1956 को मैसूर राज्य के नाम से यह राज्य पहली बार अस्तित्व में आया। हालांकि इसका नाम कर्नाटक 1973 में जाके पड़ा। महाराष्ट्र, गोआ, आन्द्र प्रदेश, तेलांगना, तमिल नाडू और केरल से घिरा हुआ ये राज्य क्षेत्रफ़ल के हिसाब से भारत का सातवाँ सबसे बड़ा राज्य है और वहीं दूसरी और जनसंख्या के हिसाब से इसका स्थान आठवां है। यह भारत का एक अभिन्न अंग है।

कर्नाटक इलेक्शन

कर्नाटक में हाल ही में 16वें विधान सभा चुनाव 12 मई 2018 को हुए हैं। जिनकी गणना 15 मई 2018 से शुरू हुई थी। कुल मिलाकर कर्नाटक की 222 विधान सभा सीटों पर चुनाव हुए। इस चुनाव में देश की सभी बड़ी पार्टीयों ने जमकर हिस्सा लिया और अपना शत प्रतिशत देने से नहीं चूके। इलेक्शन सफ़लता पूर्वक पूर्ण हुआ मगर इलेक्शन के परिणाम चौंकाने वाले निकले। 222 विधान सभा सीटों पर बहुमत के लिए 113 सीटों पर जीत होना जरूरी था मगर इस इलेक्शन में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला। तो यह साफ़ हो जाता है कि सरकार गठबंधन से बनेगी। अगर सीटों पर विजय की बात करें तो 104 सीटों पर कब्जा करके बीजेपी ने बाजी मारी वहीं कांग्रेस ने 78 और कर्नाटक की लोकल पार्टी जेडीएस ने 38 सीटों पर बाजी मारी।

karnataka assembly election 2018

कर्नाटक में किसकी बनी सरकार

जैसे कि पहले हम बता चुकें हैं कि इलेक्शन में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला और गठबंधन करना जरूरी हो गया। बीजेपी यहां गठबंधन करने में असफ़ल रही इसका मतलब कांग्रेस ने जेडीएस से मिलकर अपनी सरकार बना ली। मगर साथ ही में कांग्रेस को जेडीएस की एक शर्त को भी मानना पड़ा कि राज्य का मुख्यमंत्री जेडीएस का होगा। बीजेपी को हराने के लक्ष्य से कांग्रेस ने इस शर्त को आंख मूंदकर मान लिया। सरकार भले ही कांग्रेस की हो मगर मुख्यमंत्री जेडीएस का है।

कर्नाटक इलेक्शन के परिणाम

भारत के माननीय भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्री एच डी देवेगौडा के पुत्र श्री एच डी कुमारस्वामी कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बनें जो जेडीएस के एक वरिष्ठ नेता हैं वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के नेता श्री जी परमेश्वरा उपमुख्यमंत्री के पद पर विराजमान हुए हैं। दोनों वरिष्ठ नेताओं ने 23 मई 2018 को शपथ ली जिसमें देशभर के कई बड़े नेताओं ने भी भाग लिया। शपथ समरोह में ममता बैनर्जी, मायावती, अखीलेश यादव, राहुल गांधी, सोनिया गांधी व चंन्द्रबाबू नाएडू भी शामिल हुए।

2019 पर है सबकी नजर

शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित ममता बैनर्जी, मायावती, अखीलेश यादव, राहुल गांधी, सोनिया गांधी व चंन्द्रबाबू नाएडू ने यह साफ़ कर दिया है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए तैयार हैं। साथ ही नेताओं ने 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए एकजुट होना जरूरी समझा है। बीजेपी ने इस समारोह की निंदा की है मगर बीजेपी के सबसे बड़े नेता माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री श्री एच डी कुमारस्वामी को बधाइयॉ दी हैं और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।कर्नाटक इलेक्शन पर हमारी तरफ़ से इतना ही।

Load More Related Articles
  • ground water level

    घटता भूजल स्तर

    जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों …
  • kanvar, kanvad

    कांवड़ यात्रा

    प्रत्येक वर्ष सावन के महीने मे कांवड़ यात्रा प्रारम्भ होती है , भगवान शिव से अपना मनवांछित …
  • Maharana Pratap

    महाराणा प्रताप

    मेवाड़ के राजा, महाराणा प्रताप अपने समय एक मात्र ऐसे स्वाभिमानी शासक थे, जिन्होंने देश की स…
Load More By RPS
Load More In अपना नजरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

घटता भूजल स्तर

जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों …