Home स्वास्थय हाई ब्लड प्रेशर (Hypertension) कारण और बचाव

हाई ब्लड प्रेशर (Hypertension) कारण और बचाव

7 second read
0
0
387
High Blood Pressure, उच्च रक्तचाप

Hypertension

उच्च रक्तचाप (Hypertension) अथवा हाई ब्लड प्रेशर आज के युग में आम बीमारी है | जो लोग अपने जीवन में तनाव ग्रस्त रहते हैं वह इस बीमारी के शिकार जल्दी हो जाते हैं | हाई ब्लड प्रेशर महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में ज्यादा पाया गया है | ब्लड प्रेशर जब निर्धारित सीमा से अधिक हो जाता है तो हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है जिससे इंसान की जान भी जा सकती है | तो आइए जानते हैं कि “उच्च रक्तचाप” अथवा हाई ब्लड प्रेशर वास्तव में है क्या, यह किस तरह से होता है, इसके लक्षण क्या हैं, और किस तरह से इससे बचा जा सकता है, और अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के शिकार हो चुके हैं तो इसका इलाज क्या है |

उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर क्या है?

उच्च रक्तचाप रक्त वाहिकाओं की दीवारों के खिलाफ रक्त द्वारा लगाए जाने वाला बल है | सरल भाषा में कहें तो हमारी नसों में खून का बहाव जब ठीक तरह से नहीं होता और जब वह एक सीमा से अधिक हो जाता है तो खून की नसों की दीवारों पर प्रेशर डालता है और इसी को हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं |

ब्लड प्रेशर को नापने के लिए कई उपकरण मौजूद हैं जो बाजार में सस्ते दामों में उपलब्ध हो जाते हैं | एक सामान्य इंसान का सामान्य ब्लड प्रेशर है 120-80 mmHg. ब्लड प्रेशर उच्चतम और न्यूनतम के तरीके से मापा जाता है तथा इसे मिली मीटर ऑफ मरकरी यूनिट में मापा जाता है |

जब ब्लड प्रेशर 150mmHg से अधिक हो जाता है तो उसे उच्च रक्तचाप या हाई ब्लड प्रेशर कहते हैं | ब्लड प्रेशर से जान का खतरा तब होता है जब वह 200 से अधिक होने लगता है और इस हालत में जल्द से जल्द चिकित्सालय (Hospital) पहुंचना ज़रूरी हो जाता है  |

उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर के कारण

हालांकि उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर का कोई मुख्य कारण तो नहीं है परंतु छोटे-मोटे कारण सामने आते हैं जिनमे शामिल है धूम्रपान, मोटापा, कम शारीरिक गतिविधि, तनाव, गुर्दों की बीमारी एवं अधिक नमक के खान पान |

इसके अलावा बढ़ती उम्र के साथ हाई ब्लड प्रेशर आम देखा गया है | माना जाता है कि जो लोग सोच विचार ज्यादा करते हैं उनका ब्लड प्रेशर अमूमन हाई रहता है | कुछ मामलों में तो पैतृक लक्षणों के कारण भी हाई ब्लड प्रेशर देखा गया है | एक स्टडी के मुताबिक जो लोग पूरी नींद नहीं लेते उनका ब्लड प्रेशर भी आमतौर पर सामान्य से अधिक रहता है |

High BP, हाई ब्लड प्रेशर

उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण

जब ब्लड प्रेशर थोड़ा बढ़ता है तो कोई खास लक्षण सामने नहीं आते परंतु जब ब्लड प्रेशर 180 अथवा 200 की सीमा पार करने लगता है तो मरीज को परेशानी होने लगती है | हाई ब्लड प्रेशर के लक्षणों में शामिल है सर में दर्द, छाती में दर्द, सांस में परेशानी, अचेत होना, पसीने आना, धड़कन तेज हो जाना | इस हाल में जल्द से जल्द हस्पताल जाना अनिवार्य हो जाता है |

उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर से बचाव के तरीके

यहां पर हम आपको उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर से बचाव के कुछ तरीके बताएंगे | सबसे पहले अगर आप हाई ब्लड प्रेशर से बचना चाहते हैं तो अपना वजन ना बढ़ने दें | यह बात पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए ही लागू होती है | मोटापा जब आता है तो वह अपने साथ कई सारी बीमारियां लाता है |

इसके अलावा नियमित तौर पर एक्सरसाइज, स्वस्थ भोजन, नमक का कम प्रयोग, शराब और धूम्रपान का परहेज, चिंता और तनाव को गुड बाय, पूर्ण रुप से नींद | अगर आप इन सब चीजों पर ध्यान देंगे तो आप उच्च रक्तचाप से लंबे समय तक बचे रहेंगे |

एक शोध से पता चला है कि जो लोग म्यूजिक (Music) सुनते हैं उनका ब्लड प्रेशर आमतौर पर सामान्य रहता है | तो हमारी राय आपसे यही है कि संगीत के साथ थोड़ा वक्त बताएं और सुबह शाम के वक्त अपने यार दोस्तों के साथ हंसी मजाक करें |

उच्च रक्तचाप अथवा हाई ब्लड प्रेशर का इलाज

अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के शिकार हैं तो सबसे पहले आपको डॉक्टर (Doctor) की सलाह लेनी चाहिए | सबसे पहले दवाइयों के द्वारा अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करें और उसके बाद ऊपर दिए गए बचाव के तरीकों पर गौर करें |

ऐसे मौके पर अपने परिवार का पूरा सहयोग ले | अपनी पत्नी, अपने बच्चे, अपने माता-पिता के साथ वक्त बिताएं, कोशिश करें कि आप अकेले कम ही रहे | इससे आपका तनाव बढ़ेगा नहीं और आप खुश रहोगे | साथ ही खiली समय में योग एवं मैडिटेशन करें |

Load More Related Articles
Load More By RPS
Load More In स्वास्थय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पुलवामा हमला आतंकियों की कायरता का प्रतीक

14 फरवरी वैलेंटाइन डे के दिन CRPF के 40 जवान आतंकवादी हमले मे वीरगति को प्राप्त हुए और इस …