Home अपना नजरिया घटता भूजल स्तर

घटता भूजल स्तर

2 second read
0
1
180
ground water level

जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों ने इसका इतना अधिक दोहन करना शुरू कर दिया है की अब  वो दिन दूर नहीं है जब पीने योग्य जल पृथ्वी पर बचेगा ही नहीं | तेजी के साथ घटते भू जल स्तर (Ground Water Level) ने हम सभी की चिंताए बढ़ा दी हैं |

भारत एक कृषि प्रधान देश है तो फसलों की सिंचाई के लिए हमें पानी के आवश्यकता होती है, और इस आवश्यकता को पूर्ण काने के लिए हम नीचे दिए गए पानी के स्रोतों पर निर्भर हैं –

१. जल के स्रोत – नदियों, नहरों  मे बहता पानी

२. भूजल – कुएं. टूबवेल का पानी

३. वर्षा – बारिश का पानी

इन सबमे सबसे ज्यादा हम भूजल का दोहन सिंचाई, पीने के पानी के लिए और  रोज मर्रा  के काम काज के लिए करते हैं, जिसके कारण भूजल स्तर लगातार कम होता जा रहा है | दस साल पहले ३० मीटर खुदाई करने पर ही पानी मिल जाता था परन्तु अब यह साठ से सत्तर मीटर की खुदाई के बाद ही पानी मिल रहा है, और साल दर साल भूजल स्तर घटता ही जा रहा है, भूजल का सबसे अधिक दोहन पंजाब , राजस्थान और हरियाणा मे किया जा रहा है|

कैसे किया जाये जल संरक्षण

बरसात के मौसम में पानी बरस कर ऐसे ही बह जाता है और बेकार हो जाता है, हमें और सरकार को इस पानी को व्यर्थ मे बहने से बचाना होगा और उसे संरक्षित करने के लिए बारिश से पहले ही छोटे छोटे बाँध बनाने होंगे और साथ ही गांव शहरो और कस्बो में जो भी तालाब, पोखर और जोहड़ हैं उन सबको कब्ज़ा मुक्त करवा कर उनकी सफाई करवानी होगी जिससे की हम उनमे फिर से पानी इकठ्ठा हो सके | साथ ही सभी घरो में वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा देना होगा और उसे जरुरी करना होगा तभी कुछ हद तक जल संकट को दूर किया जा सकता है|

bhu jal istara

आज कल सभी घरो में सबमर्सिबल होना आम बात हो गया है और यह एक सबसे बड़ा कारण है  जिसके कारण भू जल स्तर तेजी के साथ घटता जा रहा है , लोग बाग़ अपने १ पशु को नहाने के लिए ही १५ – १५ मिनट सबमर्सिबल चला रहे है और सीधे पानी पशु के ऊपर ही डाल रहें हैं, आम तौर पर १-२ बाल्टी पानी में आसानी के साथ अपने पशु को नहला सकते हैं परन्तु अब कम से कम १००० लीटर पानी केवल पशु को नहलाने में ही खर्च कर रहे हैं, और ऐसा करके हम सरासर ही पानी की बर्बादी कर रहे हैं, इस तरह से हो बर्बाद हो रहे पानी को हमें बचाने के प्रयास करने होंगे | अगर सरकार सबमर्सिबल और बोरिंग पर पूर्ण रूप से प्रतिबन्ध लगा दे तो वाटर लेवल में बहुत सुधार आएगा |

अगर हमें कहीं पर भी अनावश्यक खुला हुआ नल दिखाई दे तो उसे बंद करना चाहिए और दुसरो को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करना चाहिए और व्यर्थ में ही बर्बाद हो रही पानी को बहने से बचाना चाहिए | साथ ही हमें वृक्षारोपण को भी बढ़ावा देना चाहिए जिसके कारण जलवायु भी ठीक रहेगी और बारिश भी अच्छी होगी और फिर उसके कारण भू जल स्तर भी बढ़ेगा |

पुरानी सभी सभ्यताएं किसी न किसी नदी के किनारे ही विकसित हुई थी और जब वो नदियां सूख गयीं तो वो सभ्यताएं भी बर्बाद हो गयीं इसलिए हमें अपने शहरों और गाँवो को बर्बाद होने से बचाने के लिए जल को संरक्षित करना ही होगा और यदि हम ऐसा करेंगे तभी भू जल का स्तर भी बढ़ेगा और हम आने वाली पीढ़ी को एक अच्छा भविष्य दे सकेंगे |

Load More Related Articles
  • kanvar, kanvad

    कांवड़ यात्रा

    प्रत्येक वर्ष सावन के महीने मे कांवड़ यात्रा प्रारम्भ होती है , भगवान शिव से अपना मनवांछित …
  • Maharana Pratap

    महाराणा प्रताप

    मेवाड़ के राजा, महाराणा प्रताप अपने समय एक मात्र ऐसे स्वाभिमानी शासक थे, जिन्होंने देश की स…
  • Raksha Bandhan, Rakhi ka Tyohar

    रक्षाबंधन का त्यौहार

    भारतीय धर्म अनुसार भाई बहन का रिश्ता बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता है | हिंदू धर्म में भ…
Load More By RPS
Load More In अपना नजरिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कांवड़ यात्रा

प्रत्येक वर्ष सावन के महीने मे कांवड़ यात्रा प्रारम्भ होती है , भगवान शिव से अपना मनवांछित …