Home Uncategorized एक धर्म का नहीं बल्कि सद्भावना का त्यौहार है ईद

एक धर्म का नहीं बल्कि सद्भावना का त्यौहार है ईद

2 second read
0
0
363

हमारा देश भारत जहाँ आये दिन कोई ना कोई त्यौहार मनाय जाता है| कई सारे धर्मो के लोग यहाँ एक जगह रहते है और उनकी तिथियों के हिसाब से उनके त्यौहार आते है| इन त्योहारों में कभी भी ये नहीं कहा जाता है की इसे केवल एक विशेष धर्म के लोग मना सकते है| ऐसे ही है ईद जिसे हम मुसलमानों का त्यौहार कहते है लेकिन इस बात में कितनी सच्चाई है या इस बात को माने या माने या इसके लिए आपको ये बात जान लेनी चहिये-

कहते है दुश्मन भी गले लगते है-

एक धर्म का विशेष का त्यौहार जिसे हम ईद कहते है लेकिन उस त्यौहार में दिए जाने वाले इस सन्देश को भूल जाते है जहाँ कहा जाता है की इस दिन दुशमन को भी गले लगाकर उसे बधाइयाँ देनी चहिये| इसका मतलब क्या है शायद आप धर्म की आँखों से ना समझ पाए| इसका अर्थ है की आज के दिन से कोई किसी का दुश्मन नहीं है और जो दुश्मन है वो आज के दिन दोस्त बन चुका है| आज का दिन इतना पाक है की अगर आप अपने दुश्मन को भी गले लगा लेंगे तो वो आपको ना नहीं कहेगा और आपके साथ हमेशा हमेशा के लिए दुश्मनी खत्म कर देगा| सद्भावना का ऐसा पाठ पढ़ाने वाले त्यौहार को अगर आप एक धर्म का त्यौहार कहे तो शायद आप गलत है| मान लेते है की आप वो सब नहीं कर सकते जो मुस्लिम ईद के दिन करते है लेकिन आप इस त्यौहार से मिलने वाले सन्देश को अपना तो सकते है| सोचिये अगर आज के दिन आपने सबकुछ भुलाकर एक दुश्मन को गले लगाया और दोस्त बना लिया तो आपके जिन्दगी से एक दुश्मन कम हो गया और आपके जीवन में एक नया दोस्त बन गया जो की सुख दुःख में आपका साथ देने के लिए तैयार है|

eid ul fitr

क्यों मनाई जाते है ईद-

ईद का त्यौहार रमजान के पवित्र महीने के बाद मनाया जाता है।  रमजान के महीने के आखिरी दिन जब आसमान मैं चाँद नज़र आता है तो उसके दूसरे  दिन ईद मनाई जाती है |

मुश्किल से आती है ईद- मुस्लिम धर्म में कहते है की ईद सबको नसीब नहीं होती क्योकि यह तीस रोजे रखने के बाद आती है| कहा जाता है की जो नेक नहीं होता वो अपना रोजा बीच में तोड़ देता है और समाज की बुराइयों में शामिल हो जाता है लेकिन नेक इंसान आगे बढ़ता है और रोजे पूरे करता है| फिर जाकर उसे ईद के पाक चाँद के दर्शन होते है जो की उसके जीवन को जन्नत बना देते है|

ईद एक ऐसा त्यौहार है जो हमे ये सिखाता है की कोई शुभ दिन कितनी मुश्किल से मिलता है और मिलता है तो हमे उसे कैसे मनाना चाहिए|

  • ground water level

    घटता भूजल स्तर

    जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों …
  • Maharana Pratap

    महाराणा प्रताप

    मेवाड़ के राजा, महाराणा प्रताप अपने समय एक मात्र ऐसे स्वाभिमानी शासक थे, जिन्होंने देश की स…
  • Raksha Bandhan, Rakhi ka Tyohar

    रक्षाबंधन का त्यौहार

    भारतीय धर्म अनुसार भाई बहन का रिश्ता बहुत ही पवित्र रिश्ता माना जाता है | हिंदू धर्म में भ…
Load More Related Articles
Load More By RPS
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पुलवामा हमला आतंकियों की कायरता का प्रतीक

14 फरवरी वैलेंटाइन डे के दिन CRPF के 40 जवान आतंकवादी हमले मे वीरगति को प्राप्त हुए और इस …