Home स्वास्थय सर्दी में परेशान करने वाली कुछ बीमारियाँ

सर्दी में परेशान करने वाली कुछ बीमारियाँ

3 second read
0
0
131
winter deseases

सर्दी के मौसम मे ठण्ड के शुरू होने के ही साथ हमलोगों के आसपास कुछ बीमारियों मँडरानी चालू हो जाती हैं जिनमें सर्दी, जुकाम , बुखार और त्वचा सम्बंधित रोग ज्यादा पनपते हैं, इस मौसम में हमें अपना और अपने परिवार का सबसे ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत होती है , आईये जानते हैं सर्दियों में होने वाले ऐसे ही कुछ रोगोँ के बारे मे –

सर्दी खांसी जुकाम सरदर्द –

सर्दी खांसी जुकाम सरदर्द  ये सर्दियों के मौसम में होने वाली सबसे कॉमन समस्याओं में से एक है , अगर ऐसे में आप कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम या कुछ और ठंडा खा लेते हैं तो ये समस्या और ज्यादा विकराल रूप ले लेती है , जिन व्यकितयों की प्रतिरोधक क्षमता कम होती है उनके ये समस्या सबसे ज्यादा होने की सम्भावना रहती है ।

बचाव –  सर को हमेशा ढककर रखें, अपने आस पास साफ सफाई का ध्यान रखें , पिने के लिए गुनगुने पानी का इस्तमेमाल करें,  गर्म से ठन्डे और ठन्डे से गर्म में जानें से बचें|

2 . उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) –

इस मौसम मे हाई ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को ज्यादा सतर्क होने की आवस्यकता होती है ये मौसम ऐसे व्यक्तियों के लिए जयादा खतरनाक होता है  क्योंकि इस मौसम मे पसीना कम आता है जिसके कारण शरीर मे नमक का स्तर बढ़ जाता है और शरीर में नमक का स्तर बढ़ जाने से उच्च रक्तचाप भी बढ़ जाता है  जिसके कारण हार्टअटैक होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है |

बचाव – खानपान पर ध्यान देना चाहिए और संतुलित भोजन का ही सेवन करना चाहिए, वासा युक्त बने भोजन से पूर्णतया बचना चाहिए, योग और व्यायाम नियमित करना चाहिए |

3. जोड़ो में दर्द –

जोड़ो मे दर्द होना भी सर्दियों में होने वाली एक प्रमुख समस्या है, ये बीमारी वृद्ध व्यकितयों मे ज्यादाहोती है , इस बीमारी मे पीड़ित व्यकित के घुटनो और जोड़ो मे दर्द रहता है और उनके घुटनेऔर जोड़ों मे सूजन भी आजाती है ।

बचाव – इस रोग से बचने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए और रोगी को अपने जोड़ों को ज्यादा से ज्यादा गरम रखने का प्रयास करना चाहिए |

4. दमा (अस्थमा) –

अस्थमा एक एलर्जिक बीमारी है जिन लोगो को यह बीमारी होती है उनकी समस्या सर्दियों में और ज्यादा बढ़ जाती है, इस मौसम मे कोहरे की वजह से अस्थमा के मरीजों को ज्यादा समस्या उत्पन्न होती है|

बचाव

कोहरे मे घर से बाहर न निकलें और यदि बाहर जाना भी है तो अपने नाक, कान और सिर को ढक कर ही बहार निकलें साथ ही यदि आप दवा ले रहे हैं तो उसका सेवन नियमित रूप से करते रहें |

5. खुश्क त्वचा –

क्यूंकि इस मौसम में हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है जिसके कारण चर्म रोग होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है और त्वचा खुश्क होने से त्वचा मे दरारें और खुजली हो जाती है|

  • Pulwama attack

    पुलवामा हमला आतंकियों की कायरता का प्रतीक

    14 फरवरी वैलेंटाइन डे के दिन CRPF के 40 जवान आतंकवादी हमले मे वीरगति को प्राप्त हुए और इस …
  • ground water level

    घटता भूजल स्तर

    जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों …
  • kanvar, kanvad

    कांवड़ यात्रा

    प्रत्येक वर्ष सावन के महीने मे कांवड़ यात्रा प्रारम्भ होती है , भगवान शिव से अपना मनवांछित …
Load More Related Articles
  • Pulwama attack

    पुलवामा हमला आतंकियों की कायरता का प्रतीक

    14 फरवरी वैलेंटाइन डे के दिन CRPF के 40 जवान आतंकवादी हमले मे वीरगति को प्राप्त हुए और इस …
  • ground water level

    घटता भूजल स्तर

    जल ही जीवन है और इसके  बिना पृथ्वी पर जीवन की कल्पना  भी नहीं की जा सकती, परन्तु हम लोगों …
  • kanvar, kanvad

    कांवड़ यात्रा

    प्रत्येक वर्ष सावन के महीने मे कांवड़ यात्रा प्रारम्भ होती है , भगवान शिव से अपना मनवांछित …
Load More By RPS
Load More In स्वास्थय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

पुलवामा हमला आतंकियों की कायरता का प्रतीक

14 फरवरी वैलेंटाइन डे के दिन CRPF के 40 जवान आतंकवादी हमले मे वीरगति को प्राप्त हुए और इस …